Google द्वारा उपयोग किए गए स्थान डेटा के प्रकार

आप Google पर किस तरह के स्थानों का इस्तेमाल करते हैं?

आपको Google पर ज़्यादा उपयोगी अनुभव देने के लिए, आप जिन उत्पादों और सुविधाओं का इस्तेमाल करते हैं, उसके आधार पर हम कुछ तरह की स्थान जानकारी इकट्ठी कर सकते हैं और उसका इस्तेमाल कर सकते हैं.

अस्पष्ट स्थान जानकारी वह जानकारी होती है, जो हमें यह तो नहीं बताती है कि आपका डिवाइस कहां है, लेकिन हमें यह अनुमान लगाने देती है कि आप या तो इस स्थान में रुचि रखते हैं या फिर हो सकता है कि आप अभी उस स्थान पर हों. अस्पष्ट स्थान जानकारी का एक उदाहरण है किसी खास स्थान के लिए मैन्युअल रूप से लिखी गई कोई खोज क्वेरी. अस्पष्ट स्थान जानकारी का कई तरह से इस्तेमाल किया जाता है. उदाहरण के लिए, अगर आप “एफ़िल टॉवर” लिखते हैं, तो हम यह मतलब निकालते हैं कि हो सकता है कि आप पेरिस के पास के स्थानों की जानकारी देखना पसंद करें और फिर हम आपको उन स्थानीय स्थानों के बारे में सुझाव देने में उसका इस्तेमाल कर सकते हैं.

जब आप Google के किसी उत्पाद का इस्तेमाल करते हैं या उससे इंटरैक्ट करते हैं, तब आपका डिवाइस Google को स्थान की अस्पष्ट स्थान जानकारी भेजता है ताकि हम आपको सेवा दे सकें. अस्पष्ट स्थान जानकारी में यह जानकारी शामिल होती है कि आप या आपका डिवाइस कहां है. इसका पता डिवाइस के सेंसर, GPS या वाई-फ़ाई के आधार पर लगाया जाता है. हम आईपी पते का इस्तेमाल भी करते हैं, जिसे इंटरनेट ट्रैफ़िक जानकारी के सामान्य भाग के रूप में भेजा जाता है. इंटरनेट से कनेक्ट किए गए हर डिवाइस के लिए एक नंबर असाइन किया जाता है, जिसे इंटरनेट प्रोटोकॉल (आईपी) पता कहते हैं. ये नंबर आमतौर पर भौगोलिक ब्लॉक में असाइन किए जाते हैं. आईपी पते का इस्तेमाल अक्सर उस भौगोलिक ब्लॉक की पहचान करने के लिए किया जाता है, जहां से डिवाइस को इंटरनेट से कनेक्ट किया जाता है. इसका इस्तेमाल आपको सर्च क्वेरी के लिए सही भाषा देने जैसे कामों के लिए भी किया जाता है. मोबाइल के लिए Google मैप में मोड़-दर-मोड़ नेविगेशन जैसे कुछ उत्पादों को स्थान की सटीक जानकारी की ज़रूरत होती है. इन उत्पादों के लिए, आपको खास तौर पर डिवाइस की स्थान सेवाओं को चालू करना पड़ता है. ये ऐसी सेवाएं होती हैं, जो सटीक स्थान जानने या उसका अनुमान लगाने के लिए GPS सिग्नल, डिवाइस सेंसर, वाई-फ़ाई एक्सेस पॉइंट और सेल टॉवर आईडी जैसी जानकारी का इस्तेमाल करती हैं. आप डिवाइस आधारित स्थान सेवाओं को कभी भी बंद कर सकते हैं.

स्थान इतिहास क्या है?

जगह की जानकारी का इतिहास, Google खाते में एक ऐसी सेटिंग है जो आपकी हर उस जगह की जानकारी सेव करती है जहां आप डिवाइस के साथ जाते हैं और अपने खाते में साइन इन करते हैं. इससे आपको मनमुताबिक बनाए गए मैप दिखाने, आपकी देखी गई जगहों के मुताबिक सुझाव देने, अपना फ़ोन ढूंढने में मदद करने, आपकी यात्रा में रीयल-टाइम ट्रैफ़िक दिखाने जैसे काम करना मुमकिन हो पाता है. आपके Google खाते में जगह की जानकारी का इतिहास डिफ़ॉल्ट रूप से बंद होता है. आपको अपने Google खाते के लिए जगह की जानकारी का इतिहास चालू करने के लिए ऑप्ट-इन करना होगा. इसे आपके Google खाते के गतिविधि नियंत्रणों में जाकर कभी भी बंद किया जा सकता है. यह नियंत्रित करना आपके हाथ में होता है कि आपकी जगह की जानकारी के इतिहास में क्या सेव हो रहा है और टाइमलाइन का इस्तेमाल करके आप जब चाहें अपने इस इतिहास का कुछ या पूरा भाग मिटा सकते हैं.

स्थान इतिहास में स्थान की वह जानकारी शामिल होगी जो Google को स्थान रिपोर्टिंग के ज़रिए मिलती है. यह डिवाइस पर होने वाली एक सेटिंग होती है जिससे आपका डिवाइस स्थान इतिहास में इस्तेमाल करने के लिए Google को स्थान का डेटा भेजता है.

अगर आप एक ही Google खाते में साइन इन करके एक से ज़्यादा डिवाइस का इस्तेमाल करते हैं, तो आप किसी खास डिवाइस से या सभी डिवाइस से स्थान की रिपोर्ट करना चुन सकते हैं. अगर आप चाहते हैं कि साइन इन किए गए कुछ डिवाइस स्थान इतिहास में योगदान न दें, तो आप अपने डिवाइस पर स्थान रिपोर्टिंग सेटिंग के ज़रिए उन्हें ऐसा करने से रोक सकते हैं. ज़्यादा जानें

पूरे Google पर स्थान इतिहास का इस्तेमाल किस तरह किया जाता है?

स्थान इतिहास से Google को सभी Google उत्पादों और सेवाओं में आपको ज़्यादा मनमुताबिक सुविधाएं देने में सहायता मिलती है. मनमुताबिक बनाने का यह काम कई तरह से किया जा सकता है जो इस बात पर निर्भर करता है कि आप क्या कर रहे हैं और Google के किस उत्पाद का इस्तेमाल कर रहे हैं. उदाहरण के लिए, आपके स्थान इतिहास का इस्तेमाल Google फ़ोटो आपकी फ़ोटो में ज़्यादा संदर्भ जोड़ने के लिए कर सकता है और अपने दोस्तों और परिवार को फ़ोटो दिखाते समय उन्हें ढूंढना आसान बना सकता है. स्थान इतिहास से Google को आपकी यात्रा जैसी चीज़ें समझने में भी सहायता मिलती है जिससे आपको ये सुझाव दिए जा सकते हैं कि शाम को घर के लिए कब निकलना है.

विज्ञापनों में स्थान इतिहास का इस्तेमाल किस तरह किया जाता है?

स्थान इतिहास का इस्तेमाल यह तय करने के लिए किया जा सकता है कि आपको कौन सा विज्ञापन दिखाना है और इससे विज्ञापनों का असर भी मापा जा सकता है. उदाहरण के लिए, अगर आपने स्थान इतिहास चालू कर रखा है और बार-बार स्की रिज़ॉर्ट खोजते हैं, तो YouTube पर बाद में कोई वीडियो देखते समय विज्ञापनों को ज़्यादा प्रासंगिक बनाने के लिए आपको स्की के उपकरण का एक विज्ञापन दिखाई दे सकता है. पहचान छिपाकर और इकट्ठा इस्तेमाल करके स्थान जानकारी का इस्तेमाल Google यह मापने में विज्ञापनदाताओं की सहायता करने के लिए भी कर सकता है कि किसी ऑनलाइन विज्ञापन अभियान से खरीदार उनके भौतिक स्टोर या प्रॉपर्टी तक कितनी बार पहुंचे. हम आपकी स्थान जानकारी या पहचान बताने वाली दूसरी जानकारी को विज्ञापनदाताओं से शेयर नहीं करते हैं.

मैं अपना स्थान इतिहास कैसे प्रबंधित करूं?

आप Google मैप पर टाइमलाइन सुविधा से अपना स्थान इतिहास देख और संभाल सकते हैं. यह सुविधा मोबाइल और डेस्कटॉप, दोनों तरह के उपयोगकर्ताओं को उपलब्ध है. टाइमलाइन के उपयोगकर्ता अपने स्थान इतिहास में कुछ खास प्रविष्टियों में बदलाव कर सकते हैं, दो तारीखों के बीच से जानकारी मिटा सकते हैं या अपने स्थान इतिहास की सभी प्रविष्टियां मिटा सकते हैं. ज़्यादा जानें

आप जगह की जानकारी के इतिहास को कभी भी रोक सकते हैं. यह सेटिंग आपके डिवाइस पर मौजूद 'Google जगह की जानकारी' और 'मेरा डिवाइस ढूंढो' जैसी जगह की जानकारी वाली दूसरी सेवाओं पर कोई असर नहीं डालता. 'सर्च' और 'मैप' जैसी जगह की जानकारी वाली दूसरी सेवाओं पर जगह से जुड़े डेटा को आपकी गतिविधि के हिस्से के रूप में सेव किया जा सकता है. यह कार्रवाई आपके Google खाते से जुड़े उन सभी डिवाइस पर लागू होती है जिनसे Google को पहले जगह की जानकारी भेजी जा रही थी.

अगर आप Google से अपना स्थान इतिहास निर्यात करना चाहते हैं, तो आप यहां से अपना डेटा डाउनलोड कर सकते हैं. अगर आप अपना स्थान इतिहास पूरी तरह मिटाना चाहते हैं, तो आप यहां दिए कदमों का इस्तेमाल करके ऐसा कर सकते हैं.

मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरा स्थान इतिहास चालू है?

आप जिन स्थानों पर जाते हैं, उन्हें अपने Google खाते में सेव करने के लिए पहले आपको स्थान इतिहास के लिए ऑप्ट-इन करना होगा जो खाते में की जाने वाली एक सेटिंग होती है. आप अपनी सेटिंग में जाकर कभी भी यह देख सकते हैं कि आपने स्थान इतिहास चालू किया है या नहीं. ज़्यादा जानें